Shar-e-Shayari

Believe in God & Love You're Life…


Leave a comment

परेशानियां…..

रेशानियां आपकी बहुत हैं कब इंकार किया,
यहां कौन खुशियों के सागर बहे हैं.!

फर्क सिर्फ इतना आप सब ब्यान कर है जाते,
और हम मुस्कुरा छिपाये फिरते हैं.!!


Leave a comment

वादा…..

हर वादा पूरा हो ख्वाब कोई अधूरा न हो,
यही तम्मना रही हर दिल की.!

झूठ-सच्च की बिन परवाह किये “सागर”,
कद्र कर रस्म-औ-रिवाज़ों की.!!


Leave a comment

तुझे डर है कहीं तेरे घर का पता ना बता दूँ.!!

तेरे हाथों में रख दी ‘सागर‘ ने अपनी जान.!
जियाना चाहे तो जिया वरना मौत दिला दे.!!

h.jpg

मेरे मेहबूब उस दिन क़यामत होगी,
जब तेरी ना  में  बगावत होगी.!
आँखें करेंगी इशारा मुझ गरीब और,
तेरे दिल में कोई शरारत होगी.!!

————————————————

ग़ज़ल मात्र कल्पना पर आधारित है,वास्तविकता में इसका कोई वजूद नहीं…

अर्ज़ है:-

तेरे शहर से हूँ तेरे घर का पता भी जनता हूँ.!

कम्बख्त दिल तेरे घर जाने को नहीं मानता.!!

तुझे डर है तेरे शहर का नाम बता चुका हूँ.!
कहीं जहाँ को तेरे घर का पता ना बता दूँ.!!

अरे पागल वफ़ा करने वाले मरते-मरते भी.!
मुहब्बत को सरे बाजार रुस्वा नहीं करते.!!

किस स्कूल में टीचर है कहाँ से आती-जाती.!
सब जानता पर दूर-दूर से दीदार कर लेता.!!

हो जाए गर मुहब्बत तो यहाँ फूल भेज देना.!!
इतनी ना हो हिम्मत प्रोफइल पिक बदल लेना.!!

तेरी ख़ुशी तुझे मुबारक मुझे मेरे गम हैं प्यारे.!
दुआ यूँ ही खुशियों से तूँ लबरेज़ हो जी जाए.!!

ना बोलने की कसम तूने खाई सब जानता हूँ.!
सागर‘की भी कसम है कभी आवाज़ ना देगा.!!